Pharma Industry Me Technologist Ke Liye Job Opportunity

Pharma Industry Me Technologist Ke Liye Job Opportunity


pharma industry me technologist ke liye job opportunity, technologist job in pharma industry, career as pharma technologist, pharmacist technologist job, career in pharmaceutical technologist

pharma industry me technologist ke liye job opportunity

फार्मास्युटिकल इंडस्ट्री में टेक्नोलॉजिस्ट के लिए बढ़ते अवसर


जेनेरिक दवाओं के उत्पादन में भारत का विश्व में प्रथम स्थान है। बढ़ते-बढ़ते भारत का दवा बाजार विश्व के कुल दवा बाजार का साढ़े तीन प्रतिशत के लगभग हिस्सेदार हो गया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार 2022 तक भारत का फार्मास्युटिकल बाजार लगभग साठ अरब डॉलर का हो जाएगा। इस विस्तार की वजह से निश्चित ही फार्मास्युटिकल इंडस्ट्री के क्षेत्र में रोजगार के मौके भी बढ़ेंगे।

दवाइयों की बढती मांग की वजह से इनका उत्पादन भी काफी हद तक बढ़ा है जिसकी वजह से इस क्षेत्र में प्रोफेशनल्स की मांग भी काफी बढ़ी है।

फार्मास्युटिकल्स इंडस्ट्री में टेक्नोलॉजिस्ट की भूमिका बढ़ते-बढ़ते काफी महत्वपूर्ण होती जा रही है। इस इंडस्ट्री में प्रोडक्ट यानि मुख्यतया ड्रग के डिजाइन तैयार करने से लेकर इसके निर्माण करने तक की सारी गतिविधि फार्मास्युटिकल टेक्नोलॉजी या फार्मास्युटिकल इंजीनियरिंग कहलाती है।

What is pharmaceutical technologist or pharmaceutical engineer?


फार्मास्युटिकल ड्रग बनाने वाले पेशेवर को फार्मास्युटिकल टेक्नोलॉजिस्ट या फार्मास्युटिकल इंजीनियर कहते हैं।

दवाइयों की डिजाइनिंग, मैन्युफैक्चरिंग, मेन्टेनेन्स, रिसर्च एंड डेवलपमेंट और इनसे सम्बंधित सम्पूर्ण टेक्नोलॉजी को ऑपरेट करने की जिम्मेदारी फार्मास्युटिकल टेक्नोलॉजिस्ट की होती है।

इस कोर्स में प्रवेश के लिए स्किल्ड प्रोफेशनल की आवश्यकता होती है जिसमे डिजाइनिंग, एनालिटिकल, क्रिटिकल थिंकिंग व लीडरशिप से सम्बंधित स्किल का समावेश हो।

फार्मास्युटिकल टेक्नोलॉजिस्ट बनने के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स विषयों के साथ बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक होता है। इस शाखा में अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट दोनों स्तर पर कोर्स संचालित किए जाते हैं।

इस क्षेत्र में करियर की शुरुआत फार्मास्युटिकल इंजीनियरिंग, टेक्नोलॉजी या साइंस में बीई, बीटेक, बीएससी कोर्स के माध्यम से उपाधि प्राप्त कर की जा सकती है।

कोर्स में प्रवेश एंट्रेंस टेस्ट के द्वारा वैलिड स्कोर प्राप्त करने पर मिलता है। सम्बंधित कोर्स में बैचलर डिग्री कर चुके छात्र पोस्टग्रेजुएट कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं।

Also Read - Information and Communication Technology Me Career

देश के कुछ नामी गिरामी संस्थान जैसे आईआईटी-बीएचयू, इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी, मुंबई, कलकत्ता यूनिवर्सिटी और जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी हैदराबाद आदि ये कोर्स करवाते हैं जिनमे प्रवेश लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देनी होती है।

यह कोर्स करने के पश्चात फार्मास्युटिकल इंडस्ट्री में नौकरी के अनेक विकल्प मौजूद होते हैं। इस इंडस्ट्री में फ्रेशर तथा अनुभवी दोनों तरह के कैंडिडेट्स की काफी मांग होती है।

इन कोर्सेज में डिग्री धारी छात्र रिसर्च एंड डेवलपमेंट, लेबोरेटरी, ड्रग डिजाइन, ड्रग मैन्युफैक्चरिंग यूनिट आदि क्षेत्र में जॉब हासिल कर सकते हैं।

फार्मास्युटिकल इंजीनियरिंग में अपना करियर शुरू करने वाले पेशेवर को औसतन पच्चीस हजार रुपए प्रति माह का पैकेज मिलने की संभावना होती है जो कि संस्थान और योग्यता के आधार पर भिन्न हो सकता है।

About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Connect with us

Follow Us on Twitter
Follow Us on Facebook
Subscribe Our YouTube Travel Channel
Subscribe Our YouTube Healthcare Channel

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार N24.in के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति N24.in उत्तरदायी नहीं है.

0 Comments