Dam and Baradari Saledipura Khandela Sikar

Dam and Baradari Saledipura Khandela Sikar


dam and baradari saledipura khandela sikar, saledipura baradari khandela, saladipura dam khandela, saladipura baradari khandela, dams in sikar, dams in khandela, baradari in sikar, baradari in khandela, historical monuments in khandela, historical monuments in sikar


सलेदीपुरा बाँध और सलेदीपुरा बारादरी सीकर


खंडेला के निकट सलेदीपुरा नामक जगह का बड़ा ऐतिहासिक महत्व है. यहाँ पर कई ऐतिहासिक स्थल है जो काफी दर्शनीय हैं. इन्ही में से एक है यहाँ का बाँध और इसके किनारे पर बनी बारादरी.

यह बाँध सलेदीपुरा से उदयपुरवाटी की तरफ जाने वाले रास्ते पर स्थित है. अब इस बाँध में पानी ना के बराबर है. बारिश के मौसम में इसमें कुछ पानी आ जाता है.

Saledipura Dam History


ऐसा लगता है कि प्राचीन समय में यहाँ पर या तो कोई नदी बहती होगी या फिर यहाँ कोई बहुत बड़ा तालाब रहा होगा जिसके पानी को बहने से रोकने के लिए इस बाँध का निर्माण किया गया होगा.

Saledipura Baradari construction and history


बाँध की दीवार के पास एक बारादरी बनी हुई है. यह बारादरी तीन मंजिला ईमारत के रूप में है. सबसे ऊपर की मंजिल पर बारादरी बनी हुई है. इस बारादरी के चारों तरफ खुला गलियारा एवं अन्दर एक छोटा हॉल बना हुआ है जिसमे चारों तरफ दरवाजे बने हुए हैं.

saladipura baradari khandela

बीच की मंजिल पर चारों तरफ गलियारा बना हुआ है. चारों दीवारों में खिड़की बनी हुई है जिससे नीचे की मंजिल को देखा जा सकता है. सबसे नीचे की मजिल संभवतः रहने के लिए काम में ली जाती होगी.

सबसे ऊपर की मंजिल में अन्दर हॉल की एक दीवार पर शिलालेख लगा हुआ है. इस शिलालेख में दोहे के रूप में कुछ जानकारी दी गई है. दी गई जानकारी में मोकल, रायमल, गिरधर, द्वारिकादास, जसवंत, कुंवर जयसिंह आदि के नाम स्पष्ट रूप से पढने में आते हैं.

dam and baradari saledipura khandela sikar

बारादरी से इस बाँध का भव्य नजारा दिखाई देता है. हम कल्पना कर सकते हैं कि जब ये बाँध पूरा भरा रहता होगा तब यहाँ का प्राकृतिक सौन्दर्य अपने चरम पर रहता होगा. बाँध का भराव क्षेत्र काफी बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है.

बारादरी के शिलालेख में इस बाँध के सम्बन्ध में भी जानकारी दी हुई है. जहाँ तक ये शिलालेख समझ में आता है उसके अनुसार शायद यह बंधा विक्रम संवत 1932 (1875 ईस्वी) में बनाया गया था.


बाद में सज्जन सिंह ने विक्रम संवत 1968 को फागुन के महीने में इसका जीर्णोद्धार करवाया था.

यह बड़ी ऐतिहासिक और दर्शनीय जगह है लेकिन अब पूरी तरह से उपेक्षित है. देखने में यह जगह साधारण ही प्रतीत होती है लेकिन जब इस शिलालेख को देखते हैं तब इस स्थान का महत्व समझ में आता है.

अगर आप प्राचीन धरोहरों को करीब से देखकर उन्हें जानने के इच्छुक हैं तो इस धरोहर को अवश्य देखना चाहिए.

About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Connect with us

Follow Us on Twitter
Follow Us on Facebook
Subscribe Our YouTube Travel Channel
Subscribe Our YouTube Healthcare Channel

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार N24.in के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति N24.in उत्तरदायी नहीं है.

0 Comments