Kahan Hai Vo Ladaki Poem

Kahan Hai Vo Ladaki Poem


kahan hai vo ladaki poem, kahan hai vo ladaki poetry, kahan hai vo ladaki hindi kavita, hindi poem, hindi poetry, hindi kavita

kahan hai vo ladaki poem

Kahan Hai Vo Ladaki Poem in Hindi
कहाँ है वो लड़की कविता


कहाँ है वो लड़की?
जिसे ढूँढने को दिल चाहता है
जिसका दीदार करने की हसरत रहती है
जिससे बात करने का दिल करता है
जिसको मिलने को दिल मचलता है।

कहाँ है वो लड़की?
जिसे अपने दिल का हाल बताऊँ
जिसे प्यार की कविता सुनाऊँ
जिसे अपने दिल को चीरकर दिखाऊँ
जिसके साथ प्रेम बंधन निभाऊँ।

कहाँ है वो लड़की?
जिसके आने की खबर फिजा दे देती है
जिसके आने से माहौल खुशनुमा हो जाता है
जिसके आते ही संगीत बजने का अहसास होनें लगता है
जिसके जाने पर पुष्प मुरझा जाते है।

कहाँ है वो लड़की?
जिसकी पवित्रता ओस की बूंदों सी लगती है
जिसकी कोमलता रंगबिरंगी तितलियों के माफिक है
जिसकी अल्हड़ता कलरव करते पंछियों की तरह है
जिसका शर्मीलापन छुईमुई की माफिक है।

कहाँ है वो लड़की?
जो बड़ी भोली भोली सी लगती है
जो निश्छल और मासूम प्रतीत होती है
जिसमे देवत्व का अहसास होता है
जो मन मंदिर ही मूरत सी प्रतीत होती है।

कहाँ है वो लड़की?
जिसके दो पल के साथ में ही उम्रभर की खुशी मिलती है
जिसके साथ को दिल हमेशा तड़पता रहता है
दिन तो क्या रात में भी जिसकी कल्पना रहती है
हर जगह दिल सिर्फ और सिर्फ उसे ही ढूँढ़ता रहता है।

कहाँ है वो लड़की?
जिसके साथ कहीं दूर किसी जजीरे पर जाने का दिल करता है
वहाँ जाकर प्राकृतिक सौन्दर्य के साथ उसके सौन्दर्य को तोलने का मन करता है
उसके साथ सूर्यास्त के सूरज को देखने का दिल करता है
जजीरे के एक एक पेड़ पर उसका नाम लिख देने को दिल करता है।


कहाँ है वो लड़की?
जिसके साथ तनहा किसी ऊँचे बर्फीले पहाड़ पर जाने का मन करता है
पहाड़ की ऊँचाई पर उसको मचलते हुए देखने का दिल करता है
जब पहाड़ पर आवारा बादल उसकी जुल्फों से टकरा कर खेलनें लगे
तब उन आवारा बादलों को अपने हाथों से बिखराने का मन करता है।

कहाँ है वो लड़की?
जिसके साथ समुन्दर में किसी जहाज पर जाने का दिल करता है
समुन्दर में उसे इठलाते हुए देखने को दिल तरसता है
जब घनघोर घटा आसमान में उमड़ घुमड़ कर छा जाये
उस बारिश में उसके साथ भीगने को दिल करता है।

कहाँ है वो लड़की?
जिसको देखकर ये अहसास होने लगे
शायद हम दोनों जनम जनम के साथी है
प्यार की आग में जलकर रौशनी देनें वाले
हम दोनों ही वो दीया और बाती है।

Kahan Hai Vo Ladaki Poem in English


About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Connect with us

Follow Us on Twitter
Follow Us on Facebook
Subscribe Our YouTube Travel Channel
Subscribe Our YouTube Healthcare Channel

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार N24.in के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति N24.in उत्तरदायी नहीं है.

0 Comments