Khandleshwar Mahadev Temple Khandela Sikar

Khandleshwar Mahadev Temple Khandela Sikar


khandleshwar mahadev temple khandela sikar, khandleshwar mahadev mandir khandela, khandeshwar mahadev temple khandela, khandeshwar mahadev mandir khandela, khandleshwar mahadev temple khandela timings, khandleshwar mahadev temple khandela contact number, khandleshwar mahadev temple khandela location, khandleshwar mahadev temple khandela how to reach, tourist places in khandela, heritage in khandela


खंडलेश्वर महादेव मंदिर खंडेला सीकर


प्राचीन काल में खंडेला रियासत सांस्कृतिक एवं धार्मिक कार्यों का प्रमुख केंद्र थी. शैवमत एवं जैन धर्म यहाँ पर बहुत फला फूला.

आज हम आपको खंडेला के सबसे प्राचीन मंदिर की यात्रा करवाते हैं. इस मंदिर को खंडलेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है. यह मंदिर राजपरिवार की छतरियों से थोडा पहले स्थित है.

देखने से यह मंदिर प्राचीन प्रतीत नहीं होता है संभवतः इसका कारण आधुनिक तरीके से जीर्णोद्धार होना है. जैसा आप जानते हैं कि आधुनिक शिल्पकला प्राचीन शिल्पकला को पूरी तरह से नष्ट कर देती है.

Khandleshwar mahadev location and architecture


मंदिर गर्भगृह में काँच की नक्काशी करके इसे भव्य बनाने की कोशिश की गई है. मंदिर परिसर में जगह-जगह टाइल्स का उपयोग किया गया है. गर्भगृह के बाहर पत्थर के नंदी विराजमान है.

khandleshwar mahadev temple khandela sikar

अगर इतिहास में झाँके तो पता चलता है कि पहले भी इस मंदिर का कई बार जीर्णोद्धार हो चुका है. अगर मंदिर के निर्माण के विषय में बात की जाए तो 1008 ईस्वी के खंडेला शिलालेख से महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है.

Khandleshwar mahadev mandir history


प्राप्त जानकारी के अनुसार सातवीं शताब्दी में खंडेला शैवमत का मुख्य केंद्र था. यहाँ पर आदित्यनाग धूसर ने 644 ईस्वी में अर्धनारीश्वर का एक मंदिर बनवाया था.

बाद में इस मंदिर के ध्वंसावशेष से एक नया मंदिर बना जिसे खंडलेश्वर के नाम से जाना गया और जिसकी पुष्टि 1008 ईस्वी के खंडेला शिलालेख से होती है.


इस प्रकार हम कह सकते हैं कि वर्तमान खंडलेश्वर महादेव मंदिर का इतिहास 644 ईस्वी से शुरू होता है. मंदिर ऊँचाई पर बना हुआ है जिसकी वजह से हम कल्पना कर सकते है कि उस समय यह मंदिर किसी छोटी पहाड़ी पर स्थित होगा.

मंदिर का परिसर काफी बड़ा था जिसका प्रमाण यह है कि चामुण्डा माता का मंदिर भी अपने वर्तमान स्थान पर स्थापित होने से पहले खंडलेश्वर महादेव मंदिर के प्रांगण में स्थित था.

यह मंदिर तेरह सौ वर्षों से अधिक पुराना है लेकिन अगर आप खंडेला में इसके इतिहास के सम्बन्ध में बात करेंगे तो बहुत कम लोगों को इस सम्बन्ध में पता होगा.

अगर आप विरासतों को नजदीक से देखकर इनमे अपने पूर्वजों को ढूँढना चाहते हैं तो आपको इस मंदिर में अवश्य जाना चाहिए.

About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Connect with us

Follow Us on Twitter
Follow Us on Facebook
Subscribe Our YouTube Travel Channel
Subscribe Our YouTube Healthcare Channel

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार N24.in के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति N24.in उत्तरदायी नहीं है.

0 Comments