Class 10th Ke Baad Subjects Ka Selection Kaise Karen?

Class 10th Ke Baad Subjects Ka Selection Kaise Karen?


class 10th ke baad subjects ka selection kaise karen, how to choose right subjects after class 10th, how to select subject after class 10th, subject selection after secondary exam, what to do after 10th, which stream to choose after 10th, which is the best subject after 10th


दसवीं कक्षा के बाद सही विषयों का चुनाव कैसे करें?


दसवीं कक्षा यानि कि सेकेंडरी क्लास की परीक्षाएँ जैसे-जैसे समाप्ति की तरफ बढती है वैसे-वैसे ही अभिभावकों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ना शुरू हो जाती हैं.

चिंतातुर होनें का मुख्य कारण दसवीं कक्षा के बाद उचित विषयों का चयन करना होता है. अभिभावक इसी सोच विचार और मंथन में मशगूल हो जाते हैं कि बच्चे के लिए किस विषय का चुनाव किया जाए.

Career of children depends on right subject selection


यह एक अहम प्रश्न हर अभिभावक के सामने आता है और बहुत से अभिभावक सही विषयों का चुनाव करके उसके भविष्य को सँवार देते हैं जबकि बहुत से अभिभावक इस नाजुक वक्त पर गलत निर्णय लेकर बच्चे के भविष्य को अन्धकार की तरफ धखेल देते हैं.

दसवीं यानि सेकेंडरी कक्षा किसी भी विधार्थी की उम्र का वो नाजुक पड़ाव होता है जहाँ से उसके जीवन की दिशा और दशा तय होती है क्योंकि इसी कक्षा के पश्चात उसे किसी न किसी विशेष विषय का चयन कर आगे पढ़ना होता है.

ज्ञातव्य है कि सेकेंडरी स्तर तक सभी विद्यार्थियों को सभी विषयों के बारे में पढाया जाता है तथा किसी विशेष विषय का चुनाव नहीं करना पड़ता है. हमें दसवीं कक्षा के पश्चात किस प्रकार उचित विषय का चयन करने में योगदान देना चाहिए या फिर चुनाव करना चाहिए.

How to choose correct subject?


नीचे कुछ प्रमुख बिंदु दिए जा रहे हैं जिनकी सहायता से आप अपने बच्चे को उचित विषय का चुनाव करने में मदद कर सकते हैं.

हमें यह ध्यान रखना होगा कि भविष्य में पढाई बच्चे को करनी है तो हम विषय का चुनाव करते समय बच्चे की इच्छा को प्राथमिकता देकर निर्णय लें.

विषय का चुनाव करते वक्त ऐसा नहीं हो कि जिसे पढ़ाई करनी है उसकी रुचि अरूचि का ध्यान नहीं रखा जाए. विषय के चुनाव में बच्चे की भी प्रमुख भूमिका होनी चाहिए न कि सिर्फ अभिभावक ही निर्णय लें.

सबसे पहले हमें यह पता करना होगा कि बच्चे की रुचि किस विषय में सबसे ज्यादा है और उसे सबसे अधिक कौनसा विषय पसंद है. कई बार बच्चे की रुचि ऐसे विषय में हो सकती है जिसमे वर्तमान समय में रोजगार की संभावनाएँ कम नजर आती है.

इसमें चिंतित होने की कोई बात नहीं होती है क्योंकि अगर बच्चा अपनी पसंद और रुचि के विषयों को मन लगाकर पढता है तो उस क्षेत्र में भी रोजगार आसानी से मिल जाता है जिसके बारे में हम सोचते हैं कि इसमें रोजगार नहीं है.

class 10th ke baad subjects ka selection kaise karen

अधिकतर अभिभावक कला के विषयों के बारे में ऐसा सोचते हैं कि इनमें कोई रोजगार नहीं होता है और वो अपने बच्चों को सिर्फ डॉक्टर या फिर इंजीनियर ही बनाना चाहते हैं.

जबकि ऐसा नहीं है, कला के विषयों में भी अगर मन लगाकर पढ़ाई की जाये तो इस क्षेत्र में भी वांछित सफलता प्राप्त की जा सकती है.

क्या डॉक्टर और इंजीनियर बनने के अलावा दूसरा रोजगार प्राप्त करने का कोई रास्ता नहीं है? अगर सभी लोग ही डॉक्टर और इंजीनियर बन जायेंगे तो फिर शिक्षक, लेखक, पत्रकार, बैंक प्रबंधक, प्रशासकीय अधिकारी आदि कौन बनेगा?

हम इन सभी पदों को कमतर नहीं आँक सकते हैं. अक्सर अभिभावक बच्चे की इच्छा को दबाकर अपनी इच्छाएँ उस पर थोप देते हैं जिनके परिणामस्वरूप बच्चे को आगे जाकर असफलताओं का सामना करना पड़ता है.


पढाई एकाग्रता का विषय है और एकाग्रता अक्सर रूचिकर विषयों में ही बन पाती है. हर बच्चे की पढ़ने, समझने और एकाग्र होने ही क्षमता अलग-अलग होती है. कुछ बच्चे दृढ निश्चयी होते हैं जबकि कुछ लापरवाह होते हैं.

विषय का चुनाव करते समय बच्चे की क्षमताओं का भी उचित मूल्यांकन कर लेना चाहिए और उसे उसकी क्षमताओं के अनुरूप ही विषय दिलवाना चाहिए.

अगर बच्चे को उसकी क्षमता से अधिक कठिन विषय पढ़ना पड़ा तो उसका असफल होना निश्चित है. यह ठीक उसी प्रकार होगा जिस प्रकार कम पॉवर की मोटर को अधिक वक्त तक काम में लेने पर वह जल जाती है.

विषयों का चुनाव करते वक्त हमें सभी विषयों की भलीभाँति जानकारी होनी चाहिए और अगर हमें समुचित जानकारी नहीं है तो हमें किसी करियर काउंसलर की अवश्य मदद लेनी चाहिए. हर विषय में अलग भविष्य और संभावनाएँ होती है जिन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

हमें यह नहीं देखना चाहिए कि कौनसा विषय हमारे बच्चे के लिए उचित है बल्कि यह देखना चाहिए कि हमारा बच्चा कौनसे विषय के लायक है क्योंकि विषय कोई भी हो उसमे अव्वल विद्यार्थी हमेशा सफल होते हैं.

अतः हमें सिर्फ और सिर्फ अपने विषय में अव्वल रहना है, सफलता तो अपने आप कदम चूमेगी. उपरोक्त कुछ बिन्दुओं को ध्यान में रखकर हम अपने और दूसरे बच्चों के विषय चयन में मदद कर उसे आसान बना सकते हैं.

About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Connect with us

Follow Us on Twitter
Follow Us on Facebook
Subscribe Our YouTube Travel Channel
Subscribe Our YouTube Healthcare Channel

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार N24.in के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति N24.in उत्तरदायी नहीं है.

0 Comments