Success Ke Liye Self Analysis Kyon Essential Hai?

Success Ke Liye Self Analysis Kyon Essential Hai?


success ke liye self analysis kyon essential hai, how self-analysis is essential for success, how self-analysis is important for success, why self-analysis is important for success, importance of self analysis, self analysis for growth

success ke liye self analysis kyon essential hai

सफलता के लिए आत्म-विश्लेषण कैसे आवश्यक है?


जाने अनजाने में ही सही परन्तु हम सभी को जीवन में कभी न कभी आत्म विश्लेषण की जरूरत पड़ती रहती है. आत्म विश्लेषण करना बहुत आवश्यक होता है क्योंकि यह हमें हमारी कमियों के बारे में बताता है.

जब हमें हमारी कमियों के बारे में पता चल जाता है तब इन कमियों को दुरस्त करके इनको सुधारना बहुत आसान बन जाता है.

इस दुनिया में कोई भी इंसान परिपूर्ण नहीं होता है तथा हर इंसान में कोई न कोई कमी अवश्य होती है. परिपूर्ण तो सिर्फ ईश्वर को ही कहा जा सकता है.

कहते हैं कि अपनी कमियों को जाननें के लिए निंदक का पास होना जरूरी होता है परन्तु आधुनिक युग में सफल आदमी के लिए निंदक मिल पाना बहुत मुश्किल होता है क्योंकि ये दुनिया सिर्फ और सिर्फ चाटुकारों से ही भरी पड़ी है.

सभी मनुष्य अपना काम निकालने के लिए जी हुजूरी तथा हाँ में हाँ मिलाते नजर आते हैं. इन सभी परिस्थितियों में इंसान को अपने आप को ही निंदक बनाकर अपनी कमियों का अवलोकन करना चाहिए.

How to boost our self confidence by self analysis?


हम कैसे अपनी इन कमियों को पहचाने तथा कैसे उनका निवारण कर अपना आत्म विश्वास बढ़ाएं, इन्ही सब बातों पर आगे प्रकाश डाला गया है.

सबसे पहले हमें यह पता करना होगा कि जब हम किसी से बात करते है तो क्या हम नजरे मिलाकर बात करते हैं या फिर नजरे नीची करके बात करते हैं?

नजरे मिलाकर बात करने वाले लोग आत्मविश्वासी होते हैं जबकि नजरे न मिलाकर बात करने वाले लोगों में आत्मविश्वास की कमी पाई जाती है. हमें अपने आप पर गौर करना चाहिए तथा अगर हममे यह कमी है तो इसे दूर करने का प्रयास करना चाहिए.

Self analysis is very important for growth


इस कमी को दूर करने के लिए हम आईने के सामने या फिर किसी मित्र के साथ आँख से आँख मिलाकर बात करने का अभ्यास कर सकते हैं. क्या हम किसी से बात करते समय जरूरत से ज्यादा सिर हिलाते हैं?

दरअसल जरूरत से ज्यादा सिर हिलाने पर यह समझा जाता है कि या तो हमें बात समझ में नहीं आ रही है या फिर हम बात को पूरी तरह से ध्यानपूर्वक सुन नहीं रहे हैं अर्थात हम बातों पर पर्याप्त रूप से अपने आप को केन्द्रित नहीं कर रहे हैं.

हमें जरूरत से ज्यादा सिर हिलाने के बजाय केवल एक बार हामी में सिर हिलाना चाहिए और अगर बात समझ में ही नहीं आई है तो बजाय हामी भरने के शालीनतापूर्वक उसके बारे में दुबारा पूछ लेना चाहिए.

बातचीत करते समय हाथ बांधकर बैठना या फिर खड़े रहना इस बात को इंगित करता है कि हम बातचीत में पूरी तरह से भाग नहीं ले रहे हैं तथा सिर्फ औपचारिकता वश ही बातचीत में शामिल हो रहे हैं.


वैसे भी हाथ बांधकर बात करना रक्षात्मक मुद्रा होती है जो सिर्फ अपने बचाव के लिए अपनाई जाती है. बात करते वक्त हाथ और हथेलियाँ खुली होनी चाहिए तथा बजाय बनावटी व्यवहार करने के सहज व्यवहार ही करना चाहिए.

बहुत कम मुस्कुराना तथा हमेशा गंभीर मुद्रा में रहना हमारी संकोची प्रवृति को दर्शाता है. हमें हर बात का जवाब मुस्कुराते हुए देना चाहिए परन्तु यह भी ध्यान रखना चाहिए कि बिना वजह मुस्कुराना भी हमारी छवि को बिगाड़ देता है.

मुस्कुराने से माहौल तनाव रहित तथा हल्का फुल्का बना रहता है तथा हमारे आत्मविश्वास की वृद्धि में भी सहायक होता है. बार बार बालों को सहलाने, पसीना पोंछने, इधर उधर ध्यान देने से हमारे आत्मविश्वास में कमी उजागर होती है.

हमें सामान्य रहकर अपनी बारी का शालीनता से इन्तजार करना चाहिए तथा अपने हाथों को सामने की तरफ रखना चाहिए जिससे हमारा आत्मविश्वास झलकता है.

उपरोक्त बिन्दुओं पर ध्यान देकर अगर उन्हें सुधारा जाए तो हमारे व्यक्तित्व में निखार तो आएगा ही, साथ ही साथ हमें किसी भी तरह के साक्षात्कार में भी सफलता दिलाने में सहायक होगा.

About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Connect with us

Follow Us on Twitter
Follow Us on Facebook
Subscribe Our YouTube Travel Channel
Subscribe Our YouTube Healthcare Channel

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार N24.in के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति N24.in उत्तरदायी नहीं है.

0 Comments